फटाफट (25 नई पोस्ट):

Monday, February 02, 2009

सपने


सपने (1)
सपने ऐसे थे....
कि कोंपल भी निकलते....
और पत्ते सूखे....हरे होकर
पेड़ों से लग जाते
कि समंदर भी रहते
और कुछ मीठे हो
सूखी नदियों से मिल जाते
कि सपने....सपने होते
और कुछ सच्चाइयों में भी ढ़ल जाते

सपने (2)
पता नहीं आदमी
ऐसे सपने देखता ही क्यों है
जिसे पूरा.... वो अपने दम पर
कर ही न सके....
जब से होश संभाला है
सपने देखने वालों से परेशान हूं
और उससे ज्यादा परेशान इस बात से
कि कोई भी सपना
सिर्फ अपने लिए नहीं देखता !

सपने (3)
हर किसी के सपने से
कोई जुड़ा है
ऐसा क्यों है...
क्या इसलिए कि
सपने में साये साथ नहीं देते
.....और आदमी
अपनी परछाई की आदत का मारा हुआ।


सपने (4)
मेरे सपनों में कोई था
और उसके सपने में...कोई और
मेरी मजबूरी है कि
मैं उसे उसका सपना
हासिल करने में मदद करुं
क्योंकि मुझे पता है...
कि मैं अपना सपना हासिल करके भी
नहीं हासिल कर पाऊंगा...
...और वो अपना सपना खोकर भी
हासिल कर ही लेगा !

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

9 कविताप्रेमियों का कहना है :

manu का कहना है कि -

चारों सपने बहुत अच्छे .....अभिषेक जी.........
पर आखिरी सपना...............वही........
पर मुझे आसानी से हजम हो गया........

ख्वाब अपने तेरे ख़्वाबों को अता करके चले
चाह अपनी, चाह पर तेरी फ़िदा कर के चले

दिल की ख्वाहिश थी, तुझे भी बावफा करके चले
"बे-तखल्लुस" इश्क का यूँ हक अदा करके चले

रश्मि प्रभा का कहना है कि -

dusre ke sapne jab poore karne ki khwaahish hoti hai to apne sapnon ki khubsurti nikhar jaati hai......sapnon ka har padaaw bahut hi achha hai.....

विश्व दीपक ’तन्हा’ का कहना है कि -

अभिषेक जी!
चारों लघु-कविताएँ अच्छी हैं। तीसरी बेहतरीन लगी।

बधाई स्वीकारें।
-विश्व दीपक

तपन शर्मा का कहना है कि -

आखिरी सपने में मजा आ गया!!!

rachana का कहना है कि -

बहुत खूब सपने
पढ़ कर अच्छा लगा
मनु जी आप के शेर लाजवाब

सादर
रचना

sonuu का कहना है कि -
This comment has been removed by the author.
प्रदीप वर्मा का कहना है कि -

सपने और जिन्दगी मे बहुत ज्यदा अंतर नही होता है, सपने सुप्त हकीकत हैं और जिन्दगी जागृत सपना।

आपके विभिन्न विचार आपकी सपनों की व्यख्या सराहनीय प्रयास है।

neelam का कहना है कि -

ख्वाब अपने तेरे ख़्वाबों को अता करके चले
चाह अपनी, चाह पर तेरी फ़िदा कर के चले

घर से दो -दो सेरिडोन खा कर चले
कम्बखत दर्द फिर भी न घटे -न घटे
अब तो शेर की भी टांग टूट गई ,अब क्या होगा ??????
दोनों शेर बेहतरीन हैं वाकई

abhisek ji ,kaavyapaath me aapki
aawaj suni ,bahut hi taajgi liye hue ,hume to lagta hai seriously lijiye hum to aapki aawaj ko amitaabh ke baad rakh rahen ,are wahi apne BIG B .
kavitaayen achchi hain ,par unse kahi jyaada manu ji sher achche lage

mona का कहना है कि -

very sweet n touching poem.
पता नहीं आदमी
ऐसे सपने देखता ही क्यों है
जिसे पूरा.... वो अपने दम पर
कर ही न सके....
Mera manana hai hamara=e sapne hi hame agae badnae ke liye, kuch karne ke liye uksate hain....har sapna poora nahi ho phir bhi koshish karna hamra farz hai.
उससे ज्यादा परेशान इस बात से
कि कोई भी सपना
सिर्फ अपने लिए नहीं देखता !
Bahut sundar bhav hain.....jab hum kisi aur ke sapne sache dil se poore karne ki koshish karte hain toh uska maja....uss se mila sukon alag hi hota hai. Haan agar koi galat samjhe toh dukh jaroor hota hai.

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)