फटाफट (25 नई पोस्ट):

Thursday, November 06, 2008

मौसम बदल रहा है .............


******************************
आने से तेरे दिल का मौसम बदल रहा है
हाँ अब ये लग रहा है के वक्त चल रहा है

ना पूछ राज़ जाना फींकी-सी इस हँसी का
काँटा कोई पुराना इस दिल में खल रहा है

शमएं कई जलीं दिल के मोम कितने पिघले
देख मोम है पर दिल मेरा जल रहा है

जैसे हवाओं से लौ शमओं की थरथराये
यादों से उसकी ये दिल जल-जल मचल रहा है

इब्तेदा--कुर्बत, इन्तहा* थी उसकी मर्ज़ी
पूरब से निकला सूरज, पूरब में ढल रहा है

पर तू है जब से आया, फिर धूप खिल रही है
दिल-संग* ये मेरा भी कुछ-कुछ पिघल रहा है

दिल है के जैसे कैफी* देखे किसी हंसी को
अब-अब ये लडखडाया, अब-अब संभल रहा है

जो हाथ तूने थामा, बदली लकीर उसकी
बेनासीब वो पुराना ख़ुद हाथ मल रहा है

तेरे साथ आज हँसते इक आया बूँद आंसू
रस्सी तो जल चुकी है थोड़ा-सा बल रहा है

दिल मेरा गर यूँ रोये, संभाल यार लेना
तू 'आज' है मेरा पर, वो मेरा 'कल' रहा है

लकीर लम्बी खेंचो हो दूजी छोटी करनी
यूँ भी कई लकीरे-किस्मत का हल रहा है

तेरी बज़्म पता शब् दिन का चल रहा है
हाँ अब ये लग रहा है के वक्त चल रहा है

हुस्ने-गज़ब कंवल सा सहरा* में खिल रहा है
आने से तेरे दिल का मौसम बदल रहा है


~RC

******************************
संग = पत्थर, इब्तेदा=शुरुआत,
कैफी = नशे में
कुर्बत=नजदीकी, इन्तेहा = end
शमआ = शमा, दीपक
सेहरा=मरुस्थल

******************************

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

17 कविताप्रेमियों का कहना है :

Seema Sachdev का कहना है कि -

जो हाथ तूने थामा, बदली लकीर उसकी
बेनासीब वो पुराना ख़ुद हाथ मल रहा है

तेरे साथ आज हँसते इक आया बूँद आंसू
रस्सी तो जल चुकी है थोड़ा-सा बल रहा है
शेयर अच्छे लगे

sahil का कहना है कि -

cool...........
ALOK SINGH "SAHIL"

पुनीत ओमर का कहना है कि -

"लकीर लम्बी खेंचो हो दूजी छोटी करनी
यूँ भी कई लकीरे-किस्मत का हल रहा है"

सुंदर भाव...

Anonymous का कहना है कि -

सुंदर रचना है ,बधाई ,हाँ चाहें तो वजन भी कई जगह गडबडा रहा है संभालें

ना की जगह मत कर लें ,ना ग़ज़ल में वर्जित होता है ,सेहरा नहीं सहरा लफ्ज़ है सुभाष आर्य

sumit का कहना है कि -

इस बार आपकी गज़ल बहुत ही जल्दी समझ आ गयी इस बार पढते हुए लय नही बिगडी
आपकी पिछली रचनाओ की तुलना मे इस मे कठिन शब्द ना के बराबर है


सुमित भारद्वाज

rachana का कहना है कि -

ना पूछ राज़ जाना फींकी-सी इस हँसी का
काँटा कोई पुराना इस दिल में खल रहा है

जी सही कहा तुम इतना क्यों मुस्कुरा रहे हो क्यों दर्द है जिसको छिपा रहे हो
इब्तेदा-ओ-कुर्बत, इन्तहा* थी उसकी मर्ज़ी
पूरब से निकला सूरज, पूरब में ढल रहा है

ये भी लाजवाब शेर है
पूरी ग़ज़ल ही सुंदर है
सादर
रचना

mohammad ahsan का कहना है कि -

वाह क्या बात है. लगता है कोई ग़ज़ल न हो बल्कि हलकी मद्धिम चाल से बहती हुयी कोई नदी हो. क्या न्ग्म्गी भरी ग़ज़ल है !, क्या रवानी है, माशाल्लाह , बड़ा मुश्किल है . किस श'एर की तारीफ़ करूं किसे छोड़ दूँ ,ऐसी खूबसूरत ग़ज़ल लिखने के लिए आप मुबारकबाद की मुस्तहेक हैं.
मुहम्मद अहसन

vinay k joshi का कहना है कि -

इब्तेदा-ओ-कुर्बत, इन्तहा* थी उसकी मर्ज़ी
पूरब से निकला सूरज, पूरब में ढल रहा है
.
bahut accha , badhai.
vinay

रंजना का कहना है कि -

बड़ी उम्दा और खूबसूरत ग़ज़ल है......

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

मुझे कोई भी शे'र बहुत पसंद नहीं आया। ग़ज़ल में एक ही काफिया के साथ लोग बहुत से मिसरे लिखते हैं। बड़ा शायर भी ऐसा करता है, लेकिन पब्लिक को वही सुनता/पढ़वाता है, जो कम से कम उसे बहुत दमदार लगे। कम से कम खुद को प्रथम आलोचक बनाना चाहिए। हर बंद से मोह त्यागना होगा।

RC का कहना है कि -

Shailesh ji -
With due respect to your comment ....
Ek hi Kaafiye ke saath likhe gaye kaunse Ashaar ki or sanket hai?

This is not a comment on your comment but a serious and sincere question. I cd not find it, may be we are on different pages so wanna understand what you mean to say. Kindly let me know what you are pointing at.

If you're talking about the green/blue colored text...... then its not just the Kaafiya, but the whole Misraa is repeated. This generally does not happen in "Gazals". I did it intentionally and the color has been given to point out the repetition.

Rest ..... Poetry is subjective!!

RC

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

यहाँ शायद मैं समझा नहीं सका। मेरा कहना है हर गजलगो ग़ज़ल लिखने के अभ्यास के दौरन ढेरों शे'र (या मिसरे) लिखता है, लेकिन सुनाता वहीं है, प्रकाशित करता वही है जिससे कम से कम उसे संतुष्टि मिले। मेरे विचार से आपको इस गज़ल में चूजी होना चाहिए था। दोलाइनर से मोह त्यागना चाहिए था।

MUFLIS का कहना है कि -

ghazal ki class chal rahee hai, log GURUJI se zyada se zyada seekhne ke liye muntazir haiN. `RC` ki ghazal pr Shalaish Bharatvaasiji ke tabsire ke baad GURUJI se guzaarish hai k iss baare meiN apni vaajib raae aur mashvire se navaazeiN. Aur RCji aapka radde.amal qaabil.e.ghaur hai. Your reaction is just commendable, and needs attention of all, including Bharatvaasiji.

RC का कहना है कि -

Shailesh ji -
Ok, aap ki baat main bhi samajh gayi ab.

Everybody, Muflis ji - Thank you so much! Appreciate it!

raybanoutlet001 का कहना है कि -

michael kors handbags wholesale
nike store uk
polo ralph lauren outlet
cheap michael kors handbags
michael kors handbags
ralph lauren outlet
nike roshe
ed hardy
michael kors handbags wholesale
nike air huarache

aaa kitty20101122 का कहना है कि -

air jordans
Kanye West shoes
cheap jordans
michael kors outlet
jordan shoes
kobe shoes
patriots jersey
nike air force
adidas outlet
nike air zoom

adidas nmd का कहना है कि -

coach outlet online
nike shoes
michael kors purses
oakley sunglasses
ray ban sunglasses
christian louboutin shoes
cheap ray ban sunglasses
cleveland cavaliers jerseys
nike factory outlet
cheap ugg boots

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)