फटाफट (25 नई पोस्ट):

Monday, June 16, 2008

टू-लेट


महानगरो में
किराये पर रहने वालों के लिए
मकान बदलना
बड़ी फजीहत का काम है
इसलिए भी
चला आया
उपनगरीय इलाके में

मेरे आने तक
इस मकान में
लटका हुआ था
एक बोर्ड –
टू-लेट का...
जिसे शायद हटा दिया गया

बालकनी के सामने
एक लैम्प-पोस्ट में
रहने वाले पड़ोसी ने
बहुत सुकूं दिया....
पर उन्होंने अपने पड़ोसी को
पसंद किया या नहीं...
खैर...
सुबह-शाम क्या
कई बार देर रात तक
उनकी चहचहाहट सुनाई देती

शायद बच्चे छोटे थे
लेकिन गिनकर
सातवें दिन
उन्होंने खाली कर दिया
अपना घर
जहां अब सिर्फ मुझे दिखता है
एक बोर्ड – टू लेट का।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

6 कविताप्रेमियों का कहना है :

सजीव सारथी का कहना है कि -

लगता है महानगर आपको बहुत कुछ सिखा रहा है ... लगे रहिये

गौरव सोलंकी का कहना है कि -

यह कविता क्या सिर्फ़ लिख देने के लिए लिख दी गयी या असल औचित्य मैं नहीं समझ पा रहा हूँ ?

Seema Sachdev का कहना है कि -

अभिषेक जी बिल्कुल सही बात कही है आपने

रेनू जैन का कहना है कि -

माफ़ कीजिये अभिषेक जी, किंतु बात कुछ समझ नहीं आयी

mona का कहना है कि -

This poem conveys the importance of neighbours in our life. Insaan ka kisi bhi roop mein akelapan usse bahut pareshaan karta hai.Kisi ke hone ki sunhare yaadein bas yaadein reh jaate hain. Achche neighbours milne ke baad unse bichodna ka gam dikhate yeh kavita achche lage.

Guo Guo का कहना है कि -

oakley sunglasses
beats headphones
beats by dre
cheap snapbacks
true religion jeans
air jordan shoes
mlb jerseys
replica watches
ray ban
kobe 9 elite
coach outlet store online
oakley outlet
air max 2015
gucci handbags
nba jerseys
coach factory outlet
ray ban sale
prada outlet
nike roshe run
coach outlet online
ghd hair straighteners
cheap oakley sunglasses
oakley vault
chanel handbags
louis vuitton uk
nike air max uk
michael kors outlet sale
puma sneakers
true religion jeans
cheap nfl jerseys
calvin klein outlet
fitflop
polo ralph lauren outlet
hollister clothing
kate spade uk
louis vuitton outlet
true religion jeans outlet
ghd
michael kors canada
foamposite shoes
yao0410

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)