फटाफट (25 नई पोस्ट):

Wednesday, April 23, 2008

जीवन बनाम कुकुरमुत्ता


अपने ही घर में हो जाते हैं बेगाने
जब नई पीढी उग आती है कुकुरमुत्ते की तरह

अपने ही घर में पाते हैं खुद को बेगाना
जब कुकरमुत्ते करते जाते हैं अतिक्रमण

खुद को सिमट जाना पडता है एक कोने में
कुकरमुत्ते भूल जाते हैं अहंकार में

कल को उगेगी एक और पीढ़ी
ऒर
सिमटना,सहेजना पडेगा उन्हें भी

अपने वज़ूद को घर के किसी कोने में
अहसास सालेंगें,भावनायें कुलबुलायेंगीं
अपराध बोध से आहत
तब क्या सहज रह पाऒगे
कुकरमुत्ता बनने से पहले
परख लेना
एक नज़र भविष्य पर डाल लेना
कहीं इतिहास खुद को दोहरायें ना ये विचार

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

12 कविताप्रेमियों का कहना है :

अवनीश एस तिवारी का कहना है कि -

अच्छा माध्यम का चुनाव किया है |
संदेश अच्छा है | पर , कुछ जयादा सरल और सहज लगा |

-- अवनीश तिवारी

mehek का कहना है कि -

अपने वज़ूद को घर के किसी कोने में
अहसास सालेंगें,भावनायें कुलबुलायेंगीं
अपराध बोध से आहत
तब क्या सहज रह पाऒगे
कुकरमुत्ता बनने से पहले
परख लेना
एक नज़र भविष्य पर डाल लेना
कहीं इतिहास खुद को दोहरायें ना ये विचार
posted by anuradha srivastav at 2:19 PM
सही चित्र है आज के घरों का ,बहुत खूब

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

अनुराधा जी,

बहुत सही लिखा है आपने आज की स्थिती ऐसी ही है.. समयानुकूल रचना है..
बिम्ब भी नया लिया है..

बहुत बहुत बधाई..

DR.ANURAG ARYA का कहना है कि -

बहुत दिनों बाद आपको पढ़ा ....कविता अच्छी है ....बहुत कुछ कह दिया आपने संकेतों मे.....लिखती रहिये ...

harsh patel का कहना है कि -

Navinbhai, i tried couple of time to send you message par aapne to stop kar rakhe hai aur bolte ho bhul gaye [:)]....aapko jab Indian Politics me fir se dekha tab bhi try kiya tha msg karne ka par nahi gaya......Hope this message goes yaar.........Aur ek baar to aapke Blog pe comment likha tha taki aap mera msg read kar sako.......aur batao kya chal raha hai aur kaha ho aap? China ya back to india.
[As this msg not gone, i m trying to send as comment on your blog, If you get it pl reply me navinbhai!! Have nice time brother]
-Harsh Patel

Harihar का कहना है कि -

अनुराधाजी बात सही है
पर ऐसा तो नहीं हम भी बन गये थे
कुकुरमुत्ते पीछली पीढ़ि के प्रति
अपनी नजर में न सही
पीछली पीढ़ि की नजर में

रंजू का कहना है कि -

अपने वज़ूद को घर के किसी कोने में
अहसास सालेंगें,भावनायें कुलबुलायेंगीं
अपराध बोध से आहत
तब क्या सहज रह पाऒगे
कुकरमुत्ता बनने से पहले
परख लेना
एक नज़र भविष्य पर डाल लेना
कहीं इतिहास खुद को दोहरायें ना ये विचार

सरल लफ्जों में बहुत ही गहरे भाव हैं इस रचना के अनुराधा जी ..विचार के योग्य है यह भाव ..अच्छी लगी आपकी रचना
शुभ कामनाओं के साथ

रंजू

tanha kavi का कहना है कि -

अनुराधा जी!
कुकुरमुत्ते का बिंब आपकी सोच की गहराई को दर्शाता है। अंतिम पंक्तियों में आपने बहुत हीं यथार्थपरक प्रश्न उठाये हैं। और यह कहने में कोई दो मत नहीं है कि आप अपनी बात सामने रखने में सफल हुई हैं.........।

हाँ,एक-दो कमियाँ मुझे लगीं, जो या तो शिल्प की हैं या फिर सही शब्द-चयन की।

मसलन
"अपने ही घर में हो जाते हैं बेगाने"
एवं "अपने ही घर में पाते हैं खुद को बेगाना" जैसी पंक्तियाँ दो होकर भी एक हीं लगती हैं। लगता है जैसे आपके पास शब्दों की कमी थी......इससे बचा जाता तो अच्छा होता।

-विश्व दीपक ’तन्हा’

Seema Sachdev का कहना है कि -

ऐसे ही चलती जाती है जीवन गाडी

pooja anil का कहना है कि -

अनुराधा जी , संदेश के साथ चेतावनी भी छिपी है इस कविता में , बहुत ही सही प्रतिबिम्ब चुना है आपने अपने संदेश के लिए

^^पूजा अनिल

aaa kitty20101122 का कहना है कि -

nike huarache
yeezy boost 350
nike air huarache
air force 1
adidas yeezy boost
links of london
nike zoom
lebron james shoes
adidas superstar shoes
jordan retro

adidas nmd का कहना है कि -

ralph lauren outlet
snapbacks wholesale
prada outlet
cheap jordan shoes
nike huarache
jets jersey
true religion outlet
michael kors handbags
jordan shoes
michael kors outlet

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)