फटाफट (25 नई पोस्ट):

Thursday, June 21, 2007

डर


एक अजब सा संयोग हुआ।कुछ दिन पहले एक कविता लिखी तो लिखने के बाद लगा कि इसका पहला अंश तो मैं पहले ही लिख चुका हूं।पुरानी कविताएं देखीं तो एक कविता मिली, जिसमें एक तत्व था, जो इसमें भी है और यही तत्व दोनों कविताओं की मुख्य बात है।दोनों कविताओं में एक डर भीतर तक उतरा हुआ है और इसी डर ने मुझे इन दोनों को यहाँ साथ लिखने के लिए बाध्य किया। पहली कविता करीब दो वर्ष पहले लिखी थी और दूसरी अभी कुछ दिन पहले।

डर-1
एक कशमकश सी है
या एक डर सा,
पानी में कूदने से पहले का सा भय,
मैं डूब गया या तैरना भूल गया,
तो?
या फिर पानी बढ़ता ही चला गया आकाश तक,
ये ना भी हुआ
और आकाश सिमट गया,
तो?
जो डर गया, वो मर गया,
पर अगर ना भी डरा
और फिर भी मर गया
तो कौन बदलेगा कहावतें?
और तब तक अगर
भाषाज्ञान ही मिट गया,
तो?
मरीचिका को सरोवर समझना तो ठीक था,
पर कोई अनाड़ी अगर
जलाशय को मरीचिका समझ निकल गया,
तो?
मंदिरों में बैठा है वो,
मुझे पता है,
पर अगर मैंने पुकारा
और वो ना जग सका,
तो?



डर-2

एक डर सा लग रहा है,
तुमसे बिछुड़ने के बाद भी,
हालांकि मुझे पता है कि
इसके बाद,
इससे बुरा,
कुछ भी नहीं हो सकता,
मगर फिर भी
एक डर सा लग रहा है,
लग रहा है,
जैसे मैं अँधेर के चाँद की तरह
अपने आप में सिमटता जा रहा हूं,
रोशनी देने की गलतफहमी में
अँधेरे में लिपटता जा रहा हूं,
या भटकने लगा हूं,
जैसे पुरानी दिल्ली की तंग गलियों में,
या
सड़क के इस पार जम गया हूं,
और तुम भी नहीं हो इस बार,
उंगली पकड़कर पार करवाने के लिए,
जैसे
अनजाने में झगड़ बैठा हूं,
किसी नौजवान से,
और उसके साथियों के आने पर
पछता रहा हूं,
या डर के किसी शहर में
एक अंधेरा घर बनवा रहा हूं,
लग रहा है कि तूफान आएगा
और तूफान नहीं आता तो
अपने पूर्वाभासों के गलत होने पर
टूट जाता हूं,
एक सपना देखता हूं कि
तुम्हारी रेल के जाने पर,
मेरा कुछ 'मैं' भी
उसी के भीतर छूट जाता हूं,
कभी देखता हूं कि
मैं नीलाम हो रहा हूं
और तुम्हारे पास पैसे नहीं हैं
कि बोली लगा सको,
डर लग रहा है,
क्योंकि पुकारना चाहता हूं
और तुम्हारा नाम भूल जाता हूं,
अपना अस्तित्व बनाए रखने को
जाने किस किस बात पर मुस्कुराता हूं,
डर लग रहा है,
क्योंकि मैं बेचने लगा हूं तुम्हें,
गीत बनाकर,
जैसे पत्ता हूं,
और सूखने लगा हूं,
बेरुखी को आदत बनाकर,
लग रहा है
कि मैं शून्य हो गया हूं,
किसी पहचाने से मुहल्ले में
अचानक गुम हो गया हूं,
आहिस्ता बोलता हूं
तो गूँज जाता हूं,
जैसे तपस्या के आखिरी दिन
अपने आराध्य को भूल जाता हूं,
एक डर सा लग रहा है कि
मैं खत्म हो रहा हूं,
एक आग सी लगी है
और भस्म हो रहा हूं,
एक डर सा लग रहा है,
जो घुन की तरह
मेरे साथ पिस रहा है,
कुछ सच है,
जो बहुत डरावना है
और दिन-रात दिख रहा है...

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

31 कविताप्रेमियों का कहना है :

आर्य मनु का कहना है कि -

"या भटकने लगा हूँ,जैसे पुरानी दिल्ली की तंग गलियों में॰॰॰"
ऐसा लगा जैसे गुलज़ार साहब को पढ रहे है ।
बहुत ही अच्छा गौरव जी,
ये डर ही है जो सर्वव्याप्त है, और जो हमें हर अच्छेबुरे काम से पहले सोचने पर मज़बूर करता है ।

बहुत बहुत बधाई ।
आर्यमनु

monika का कहना है कि -

hi gaurav
dono kavitae hi bhout aachi hai .. dil ke dar hai jo us ko kitne sahi sabdo mai baya kiya hai. good and i must tell u ur writing is reaily good.

RATIONAL RELATIVITY का कहना है कि -

Nice poetry.you have rightly highlighted the omnipresent emotion of fear as if we are addicted to it n can't do without.
--Dr.R GIRI

अजय यादव का कहना है कि -

दोनों कविताएं सुंदर हैं पर मुझे दूसरी ज्यादा पसंद आयी.

Rakesh Pasbola का कहना है कि -

अनजाने में झगड़ बैठा हूं,
किसी नौजवान से,
और उसके साथियों के आने पर
पछता रहा हूं,

सच्‍चाई से अवगत कराता है आपने बहुत अच्‍छा लिखा है;

chhavi का कहना है कि -

behad khubsurat dar hai,lekin ye to bataye jo is dar ko bhajayega vo diya kidhar hai. dar andhero se laga to hamne deep jala diya, lekin kaya humne socha dar to tha apne andar chhipa hua, usko bhagane ke liye jaruri hai apna antarman jala, phir nahi hoga koi dar deep chahe ho jala ya ho phir vo bujha.
dar vastav me hame bahut kuchh karne se rok deta hai.

sifar का कहना है कि -

मेरे ख्याल से शायद दोनो कवित्त दो अलग-अलग स्तर के कवि द्वारा लिखे प्रतीत हो रहे हैं.... वो व्यक्त ’अजब सा संयोग ’ दुर्योग सा लगा.... ।
पहले मे परिपक्वता की कमी झलक रही है , तो दूसरे मे शब्दो के मायाजाल मे कैद भाव का रूदन आर्तनाद बन गया है....।

वैसे रचना को प्रेषित करने के पहले स्व-सम्पादन की आवश्यकता पर जरूर ध्यान देना चाहिए।

सस्नेह,

श्रवण

Alok का कहना है कि -

Gaurav ji doosri waali kavita me dar ka ahsaas jyada lag raha hai mujhe. achhi hai

ritu का कहना है कि -

gaurav
tumhari dar kavita padhi. bahut sundar likha hai.kahin na kahin har insaan darta hi haiye baat alag hai ki uski abhiyakti nahin karta aur bahadur hone ka dava karta hai.dar anek baar bure kaamo se bhi bachata hai aur kabhiachhe kamo main badha bhi banta hai.itni achhi kavita ke liye badhayi aur bhavishya ke liye shubh kamnayen

कुमार आशीष का कहना है कि -

आहिस्ता बोलता हूं
तो गूँज जाता हूं,
गौरव जी.. सुन्‍दर है
जफर का शेर याद आया..
दो ही लम्‍हे जिन्‍दगी में मुझपे गुजरे हैं कठिन
इक तेरे आने के पहले..इक तेरे जाने के बाद

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

कवि डर के प्रथम अंश में कम परिपक्व लगता है और सत्य है कि था भी। वैसे में भावनाएँ नैसर्गिक लगती हैं।

मंदिरों में बैठा है वो,
मुझे पता है,
पर अगर मैंने पुकारा
और वो न जग सका,
तो?

इस तरह का डर मुझे भी लगता था।

उम्र बढ़ने का साथ-साथ जिस तरह आदमी चालाक होता जाता है उसी तरह के चालाक बिम्म इस कविता में दिखाई देने लगते हैं जैसे तंग के लिए कवि पुरानी दिल्ली पहुँच जाता है।

कुछ भी हो आप हमेशा की तरह प्रभावित करते हैं।

तुम्हारी रेल के जाने पर,
मेरा कुछ 'मैं' भी
उसी के भीतर छूट जाता हूं,
कभी देखता हूं कि
मैं नीलाम हो रहा हूं
और तुम्हारे पास पैसे नहीं हैं
कि बोली लगा सको,

यह डर सच में भयानक है।

बहुत सी पंक्तियाँ तो अद्‌भुत हैं-

डर लग रहा है,
क्योंकि मैं बेचने लगा हूं तुम्हें,
गीत बनाकर,
जैसे पत्ता हूं,
और सूखने लगा हूं,
बेरुखी को आदत बनाकर,
लग रहा है
कि मैं शून्य हो गया हूं,

मुझे लगता है कि आधुनिक कविताओं में इसी तरह का भाव विन्यास होना चाहिए।

जैसे तपस्या के आखिरी दिन
अपने आराध्य को भूल जाता हूं,

ऐसी लिखने की प्रतिभा, आपमें ही है।

JIGNESH0509 का कहना है कि -

YOU ARE A VERY EXCELLENT POET
APNE FEAR KE BARE MAI KAPHI SOCHA HAI
I ENJOYED UR POETRY BUS OR KUCHA LIKHO TO BATA DENA TAKI PADH SAKU

Praveen का कहना है कि -

sach kahu..to bohot dino baad koi kavita pari hai..hindi wali...
really..
aap bohot acha likhte hai..
aapki wo panktiya..
ki " mai chut gaya"....
aur "boli lag rahi hai....and khareende ke liye paise nahi hai."
en panktiyo mai ek azeeb si vivahsta hai..jo maan ko chu jati hai..
really..
aap nishay hi ek bohot ache kavi hai...
all the best for ur future yaar..
keep it up...

प्रशांत मलिक का कहना है कि -

are yaar gaurav
kya likh diya hai yaar tumne
bahut he achcha hai ye to
मरीचिका को सरोवर समझना तो ठीक था,
पर कोई अनाड़ी अगर
जलाशय को मरीचिका समझ निकल गया,
तो?
मंदिरों में बैठा है वो,
मुझे पता है,
पर अगर मैंने पुकारा
और वो ना जग सका,
तो?
or
कभी देखता हूं कि
मैं नीलाम हो रहा हूं
और तुम्हारे पास पैसे नहीं हैं
कि बोली लगा सको,
kafi gahri baat kahi hai yaar
bahut dino me koi dil ko chhu lene vali baat kahi hai yaar
vastav me maja aa gaya
jiyo yaar

tanha kavi का कहना है कि -

शैलेश जी ने सच हीं कहा है कि जिस तरह से आपने अपने डर को अपनी लेखनी दी है, वैसी प्रतिभा सिर्फ आप में ही है।
अपरिपक्वता की बात मुझे नहीं लगती, क्योंकि पहली कविता में भी आपने जिस तरह के बिंब प्रस्तुत किए है, वे भी विरले हीं मिलते हैं। रही बात दूसरी कविता की , तो इसका तो कोई जवाब हीं नहीं।

१.या भटकने लगा हूं,
जैसे पुरानी दिल्ली की तंग गलियों में,
२.या डर के किसी शहर में
एक अंधेरा घर बनवा रहा हूं,
लग रहा है कि तूफान आएगा
और तूफान नहीं आता तो
अपने पूर्वाभासों के गलत होने पर
टूट जाता हूं,
३.मैं नीलाम हो रहा हूं
और तुम्हारे पास पैसे नहीं हैं
कि बोली लगा सको,
४.क्योंकि मैं बेचने लगा हूं तुम्हें,
गीत बनाकर,
जैसे पत्ता हूं,
और सूखने लगा हूं,

कुल मिलाकर एक हृदय-स्पर्शी रचना। बधाई स्वीकारें।

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

गौरव जी
क्षमाप्रार्थी हूँ विलंब से टिप्पणी करने के लिये। कविता बताती है कि कवि एक सुलझा हुआ व्यक्तित्व है। सोच का गहरा धरातल है उसके पास और वह बाल की खाल निकाल सकता है, अपने बहुआयामी, माईक्रोस्कोपिक ऑबजर्वेशंस के कारण। कविता का प्रवाह नयी कविता में आपकी पकड को स्थापित कर रहा है। पहली कविता संपूर्ण मनोविज्यान है। और इसको इस अंत नें पराकाष्ठा दे दी है:

"मंदिरों में बैठा है वो,
मुझे पता है,
पर अगर मैंने पुकारा
और वो ना जग सका,
तो?"

दूसरी कविता भी असाधारण है।विशेष कर यह बिम्ब:

"जैसे मैं अँधेर के चाँद की तरह
अपने आप में सिमटता जा रहा हूं,
रोशनी देने की गलतफहमी में
अँधेरे में लिपटता जा रहा हूं,
या भटकने लगा हूं,
जैसे पुरानी दिल्ली की तंग गलियों में"

"कभी देखता हूं कि
मैं नीलाम हो रहा हूं
और तुम्हारे पास पैसे नहीं हैं
कि बोली लगा सको,
डर लग रहा है,
क्योंकि पुकारना चाहता हूं
और तुम्हारा नाम भूल जाता हूं"

"डर लग रहा है,
क्योंकि मैं बेचने लगा हूं तुम्हें,
गीत बनाकर,
जैसे पत्ता हूं,
और सूखने लगा हूं"

गौरव, आपसे मेरी अपेक्षाये बढती ही जा रही हैं। आप देदीप्यमान हों, मेरी शुभकामनायें।

*** राजीव रंजन प्रसाद

swapna का कहना है कि -

दुसरी कविता मन को भा गयी गौरवजी । बधाई ।

गिरिराज जोशी "कविराज" का कहना है कि -

गौरवजी,

दोनों कविताओं में दिख रहा "गेप" इस बात का प्रमाण है कि समय के साथ-साथ भावों को शब्दों में ढ़ालने की प्रक्रिया में बदलाव आता है। आपकी दोनों कविताओं के बीच दो वर्ष का अंतराल है, दिख भी रहा है।

शुरूआत में कवि भाव व्यक्त करता है, उन्हें दिल से काग़ज पर लाने के प्रयत्न में वो शब्दों की प्रतिक्षा नहीं करता, मगर समय के साथ-साथ वह भावों को शब्दों में गुंथने मे सक्षम होने लगता है।

बधाई स्वीकार करें!!!

रंजू का कहना है कि -

दोनों कविताएं सुंदर हैं

एक सपना देखता हूं कि
तुम्हारी रेल के जाने पर,
मेरा कुछ 'मैं' भी
उसी के भीतर छूट जाता हूं,
कभी देखता हूं कि
मैं नीलाम हो रहा हूं
और तुम्हारे पास पैसे नहीं हैं
कि बोली लगा सको,
डर लग रहा है,


आपका लिखा प्रभावित करता है ग़ौरव जी

sunita (shanoo) का कहना है कि -

बहुत प्रभावशाली कविता गौरव जी,डर भी जिन्दगी का एक हिस्सा है बहुत सुन्दर और सही ढ़ंग से आपने डर की व्याख्या की है...दोनो ही रचनाएं सुन्दर है...


शानू

सुनील डोगरा ज़ालिम का कहना है कि -

"मंदिरों में बैठा है वो,
मुझे पता है,
पर अगर मैंने पुकारा
और वो ना जग सका,
तो?"

कवि ने बहुत ही सुन्दर ढंग से कविता कॊ पेश किया है। कविता पढने के बाद माहॊल जम गया है आज दिन अच्छा गुजरेगा।

मैं नीलाम हो रहा हूं
और तुम्हारे पास पैसे नहीं हैं
कि बोली लगा सको,
४.क्योंकि मैं बेचने लगा हूं तुम्हें,
गीत बनाकर,
जैसे पत्ता हूं,
और सूखने लगा हूं,

भाव दिल की गहराई में उतर चुके हैं।

कहीं कवि निराशावादी तॊ नहीं।

Parul का कहना है कि -

I wanted to write in Hindi, sorry for not having the right font, but won't demean the language by writing Hindi in roman fonts :-)
Your poetry will certainly touch the hearts of many. Specially the lines
मंदिरों में बैठा है वो,
मुझे पता है,
पर अगर मैंने पुकारा
और वो न जग सका,
तो?
over-whelmed me with the fear-feeling.
Keep writing and inspiring us!
-Parul

Surendra का कहना है कि -

एक कशमकश सी है
या एक डर सा,
पानी में कूदने से पहले का सा भय,
मैं डूब गया या तैरना भूल गया,
तो?............

kavita main vision ka aabhav hai

Dr. Pankaj Singh का कहना है कि -

डर पर प्रतिक्रिया देना,इतना भी आसान नही
मै खुद ना जाँऊ डर,कुछ डर पर कह्ते हुए कही।
पर् कलम तुमहारी खूब चली,खुद डर ही ना जाये डर कही
अस्तित्व अपना खोदे स्वय वह, भस्म ना हो जाये वो कही।
मरीचिका का दिखाकर भाव, डर को दिया नया एक घाव
मरीचिका दिखाकर जलाशय कुदाया, साहस की बनाकर नाव।
कही पाठ पढाया मन्दिरो का, कही सडक पर जमे है पाँव
मन करता कुछ मै भी लीखू, खेलू मै भी ओर एक दाँव।

Anonymous का कहना है कि -

Awеsοme post.

Herе is mу ωebsite ...
Devis Travaux

Anonymous का कहना है कि -

Hey there! Would уou mind if I shaгe уour blog with my
faсebooκ group? There's a lot of folks that I think would really appreciate your content. Please let me know. Cheers

Also visit my blog meuble salle de bain

Anonymous का कहना है कि -

Somebody essentially lend a hand to make severely posts I'd state. This is the very first time I frequented your web page and to this point? I amazed with the research you made to make this actual submit incredible. Excellent task!

Also visit my website :: Rolland Garros

Anonymous का कहना है कि -

I am extremely impressed with your writing skills as well as with the layout on your weblog.
Is this a paid theme or did you modify it yourself? Anyway
keep up the nice quality writing, it is rare to see a great blog like
this one these days.

Also visit my website; voyance par téléphone

Anonymous का कहना है कि -

Your way of telling all in this paragraph is truly fastidious, all be
capable of simply know it, Thanks a lot.

Here is my web site; voyance gratuite

حسام داود का कहना है कि -

شركة تسليك مجاري بالرياض
شركة تسليك مجارى بالرياض
level تسليك المجاري بالرياض
افضل شركة تنظيف بالرياض
تنظيف شقق بالرياض
شركة تنظيف منازل بالرياض
شركة غسيل خزنات بالرياض
افضل شركة مكافحة حشرات بالرياض
رش مبيدات بالرياض
شركة تخزين عفش بالرياض
شركة تنظيف مجالس بالرياض
تنظيف فلل بالرياض
ابى شركة تنظيف بالرياض

liyunyun liyunyun का कहना है कि -

http://www.kobeshoes.uk
adidas superstar shoes
cheap jordans
chrome hearts
authentic jordans
http://www.kobebasketballshoes.us.com
kyrie 3 shoes
adidas neo
nike air force
<a href="http://www.ledshoes.us.com" title="led shoes for kids><strong>led shoes for kids</strong></a>
503

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)