फटाफट (25 नई पोस्ट):

Monday, January 29, 2007

मैं गुजरता रहा............


शाम ढलती रही, मैं गुजरता रहा,
रात ढलती नहीं, मैं गुजरता रहा

रेत पर पाँव थे, दर्द की छाँव थे,
ठौर मिलती नहीं, मैं गुजरता रहा

तुमने देखा नहीं, मैने पूछा नहीं,
कोई टूटा कहीं, मैं गुजरता रहा

ओस की बूँद थी, बंद थी पंखुडी,
गाल पर धार सी , मैं गुजरता रहा

मैने "राजीव" जब, नाव भँवरों को दी,
डूबती है नदी, मैं गुजरता रहा


***राजीव रंजन प्रसाद

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

9 कविताप्रेमियों का कहना है :

tanha kavi का कहना है कि -

तुमने देखा नहीं, मैने पूछा नहीं,
कोई टूटा कहीं, मैं गुजरता रहा

ओस की बूँद थी, बंद थी पंखुडी,
गाल पर धार सी , मैं गुजरता रहा

jaane kya-kya charitaarth kiye hain apne , in do chhandon mein.
badhai sweekar karein.

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

आपकी ग़ज़ल पर भी समान पकड़ है। मज़ा आ गया पढ़कर।
बहुत खूब!!!

Anupama Chauhan का कहना है कि -

No words to say except for you are the best!!!!!

आलोक शंकर का कहना है कि -

ओस की बूँद थी, बंद थी पंखुडी,
गाल पर धार सी , मैं गुजरता रहा

उत्तम

Gaurav का कहना है कि -

"गाल पर धार सी , मैं गुजरता रहा"
बहुत सुन्दर राजीव जी
बधाई

Medha Purandare का कहना है कि -

तुमने देखा नहीं, मैने पूछा नहीं,
कोई टूटा कहीं, मैं गुजरता रहा

In panktiyon mein puri kavita sameti hai.
Do kadam tum na chale,do kadam hum na chale...song yaad aaya.
kahan se late ho aaise shab, ki aate hain udkar aapke paas aapki bhavnayen shabd bankar?

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

गज़ल पढने एवं मेरा उत्साह बढाने का धन्यवाद|

Sanjay Mishra का कहना है कि -

Namskar Rajeev Bhai,
Bahut ache.
aap to apni es kivita se to dil ko chu lete hain.
jawab nahi aap ka.
dil se sukriya.

BOND का कहना है कि -

bahut khoobsurat likha hai aapne
"PADHE BINA HAME BHI RAHA NAHIN JATA,

KYA KAHEN KI KUCHH KAHA NAHIN JAATA"

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)