फटाफट (25 नई पोस्ट):

Tuesday, September 12, 2006

दो क्षणिकाएँ ...


(1)
सड़क किनारे
पत्थर की दिवार
जिसके नीचे लेटा
अपंग/अंधा/भूखा/लाचार
और पास से गुजरते
पत्थर दिल इंसान ॰॰॰
(2)

वृक्ष के किनारे लेटा
भूख से बिलखता बालक
पास ही
बदहाल;फटेहाल
मजदूरी करती
माता ॰॰॰